पत्रकारिता की कई सफल कहानी गढ़ने वाले ‘स्वयं प्रकाश’ बने जी न्यूज के संपादक

swayam prakash

-इंडिया व्यू ब्यूरो।

बिहार की पत्रकारिता में आज एक नए अध्याय की शुरुआत हुई है। वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक स्वयं प्रकाश ने जी न्यूज बिहार-झारखंड के संपादक बने। जी न्यूज के साथ नई पारी की शुरुआत के साथ ही यह आशा जताई जा रही है कि बिहार और झारखंड में टेलीविजन मीडिया को लेकर एक नया सवेरा आएगा।

नए-नए प्रयोग करने वाले स्वयं प्रकाश के नाम पत्रकारिता के सफल कहानियों की लंबी-चौड़ी फेहरिस्त है। बिहार से लेकर राजस्थान तक कई नए संस्करण के शुरु कराने से लेकर उसके शीर्ष तक पहुंचाने का श्रेय स्वयं प्रकाश के नाम है।

हिंदुस्तान पटना में आप सेवा दे चुके हैं। हिंदुस्तान में संपादकीय गुणवत्ता को लेकर आपकी सक्रियता की मिसाल दी जाती है। बिहार में नंबर वन अखबार बनाए रखने में आपका महत्वपूर्ण योगदान है।

दैनिक भास्कर राजस्थान में भी स्वयं प्रकाश जी ने कई सफलता को अपने नाम किया। उदयपुर में भास्कर को सफलतापूर्वक संचालन और फिर भीलवाड़ा में नए संस्करण में आपके दिए गए योगदान को आज भी लोग याद करते हैं।

स्वयं प्रकाश बिहार की पत्रकारिता में वो नाम हैं जिन्होंने प्रभात खबर को कलम और नए प्रयोग के आधार पर प्रसार में शिखर तक की यात्रा की पटकथा लिखी है। पटना जैसे संस्करण में स्थानीय संपादक की भूमिका निभाने के साथ प्रभात खबर के लिए कई इतिहास रचे। कलाम साहब को अतिथि संपादक बनाने का हो या गुलाम अली साहब के कार्यक्रम की बात हो। चंद दिनों में ही प्रबंधन आपको बिहार प्रमुख की जिम्मेवारी सौंप दी और बिहार के सभी संस्करणों का सफल संचालन किया।

दैनिक भास्कर राजस्थान में भी स्वयं प्रकाश जी ने कई सफलता को अपने नाम किया। उदयपुर में भास्कर को सफलतापूर्वक संचालन और फिर भीलवाड़ा में नए संस्करण में आपके दिए गए योगदान को आज भी लोग याद करते हैं।

स्वयं प्रकाश जी के कलम के प्रति संवेदना का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि श्री श्री रविशंकर के कार्यों से कैसे लोगों के जीवन में बदलाव आते हैं इसे देखने और समझने के लिए आपने एक झटके में दैनिक भास्कर जैसे प्रतिष्ठित संस्थान से त्यागपत्र देकर शोध कार्य में जुट गए। हालाकि बाद में भास्कर ने सवैतनिक कार्य करने करने की इजाजत दे दी।

स्वयं प्रकाश की अब तक दो प्रकाशित पुस्तकें हैं। जबकि कई अप्रकाशित हैं। “जीना सीखा दिया’ पहली कृति है। जिसका अभी तक कई आठ संस्करण प्रकाशित हो चुकी है। कई भाषाओं में रुपांतरण हो चुके हैं।

आपकी कई देशों की यात्राएं भी किए हैं। पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करते हुए नए नए विषय पर विदेश में भी आपको सम्मान मिला है। पत्रकारिता में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए आपको मॉरिशस में तत्कालीन राष्ट्रपति अनिरुद्ध जगन्नाथ के हाथों सम्मान प्राप्त हुआ।

नई पारी के लिए ढेरों सारी बधाइयां एवं शुभकामनाएं।

 

 

One Response to पत्रकारिता की कई सफल कहानी गढ़ने वाले ‘स्वयं प्रकाश’ बने जी न्यूज के संपादक

  1. Dr Dhiresh Kulshrestha Associate Professor Economics says:

    congratulations…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *