स्कूली बच्चों ने पुरानी किताबों की लाइब्रेरी को देखा, पुस्तकों से मित्रता का लिया संकल्प

19f

इंडिया व्यू ब्यूरो।

गोपालगंज। बिहार के गोपालगंज में पुरानी की किताबों से बनी लाइब्रेरी को द होली चाइल्ड सीनियर सेकेंड्री स्कूल, जादोपुर, गोपालगंज के बच्चों एवं शिक्षकों ने देखा और पुस्तकों से रू-ब-रू हुए। बच्चों ने लाइब्रेरी और पुस्तकों के महत्व को कागज पर भी उकेरा। पेंटिंग के माध्यम से बच्चों ने लाइब्रेरी के लिए लोगों को जागरूक भी किया। स्कूली बच्चों को भारत के संविधान को दिखाया गया और संविधान की जानकारी दी गई।

लाइब्रेरी के प्रमुख बिजेंद्र कुमार ने कहा कि भारत का यह संविधान हमारे गांव की धरोहर है। पुस्तक और लाइब्रेरी जीवन की एक अहम कड़ी है। अगर पुस्तकों से दोस्ती करते हैं तो आपकी जिंदगी संवर सकती है। मैं आपके सामने एक उद्हरण हूं। गांव में जब लाइब्रेरी की स्थापना हुई तो मेरी जिंदगी में अचानक बदलाव आने लगा। मैंने भी किताबों से दोस्ती कर ली है।

IMG-20181228-WA0081

स्कूली बच्चों के साथ स्कूल के प्राचार्य इंद्रजीत कुमार एवं लाइब्रेरी प्रमुख बिजेंद्र कुमार

स्कूल के प्राचार्य इंद्रजीत कुमार ने बच्चों को किताबों से परिचय कराते हुए कहा कि आप भी इन किताबों से मित्रता कर के देखिए। बहुत मजा आएगा। किताबों से आपका विवेक जागृत होगा। आपका जीवन निखर सकता है। आप अपने गांव से दुनिया के महत्वपूर्ण लोगों की लिखी पुस्तकों को देख सकते हैं। पढ़ सकते हैं। इससे सौभाग्य की बात क्या हो सकती है। बच्चों की टोली में शिक्षिका मंजु कुमारी, रंजना कुमारी, नीलू कुमारी, सोनी कुमारी एवं खुश्बू कुमारी शामिल थी।

ज्ञात हो कि एक युवा समाजकर्मी एवं पत्रकार जयप्रकाश मिश्र ने देश भर से पुरानी किताबों को इकट्ठा कर जादोपुर दुखहरण गांव में निःशुल्क लाइब्रेरी की रचना की है। जिसका संचालन करीब डेढ़ वर्ष से निरंतर चल रहा है। इसका लाभ आसपास के लोगों तो उठा ही रहे हैं। अब स्कूली बच्चों के लिए भी यह  साबित हो रहा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *